Agriculture and Farmer Welfare

Krishi Bhagya Scheme for Farmers in Karnataka / कर्नाटक में किसानों के लिए कृषि भाग्य योजना

The state Government of Karnataka has launched flagship scheme to achieve revolutionary change in Karnataka’s farm sector named Krishi Bhagya Scheme. under this scheme, government commit to transform agricultural sector by increasing farm productivity, infusion of new technology & equipment, sustainable agriculture practices and better water management & irrigation facilities in the state. In the Karnataka, 70% farmers depend on rain water for their crops. These rains fed fields don’t have any form of assured irrigation during dry period. Famers could not able to get adequate amount of water during their crucial time of crops. The total losses or lower yields reduce rain fed farming to an unsustainable proportion. This un-sustainability pushes some farmers out of agriculture itself. Hence, government started this scheme for farmers with an aims to offer solution that enables rain fed farming towards sustainable agriculture. In this pragramme, government is supporting farmers to make a farm pond with polythene lining (to prevent percolation), install pump and sprinkler irrigation system (for efficient water utilization). This programme helps farmers to harvest rain water in their farm and irrigation system helps to use those water efficiently for agriculture. If farmers take proper advantage of this program they can save their crops or enhance yield by about 30%. By delivering that much more income, this programme hopes to bring sustainability into rain fed farming

Benefit of Krishi Bhagya Scheme:

  • Increasing farm productivity
  • Infusion of new technology & equipment
  • Sustainable agriculture practices
  • Better water management & irrigation facilities
  • This scheme helps to rain fed farmers
  • The water harvested in the pond helps farmer to protect the crops when there is no rain

Features of Krishi Bhagya Scheme:

  1. Under this prgramme, government provide machinery at affordable rents to farmers. Farm machinery includes tractors, tillers, cultivators, diggers etc
  2. 183 Farm machinery and equipment hiring centers already established all over the Karnataka state and more than 278 new centers open soon
  3. Bhoochethana & BhooSamruddhi Programme to rejuvenate soil health and water management has entered its third phase in Karnataka. Farmers who adopted this programme helps huge gain in agriculture sector
  4. Farm ponds for rain water harvesting in the farm
  5. Krishi Mela’s are being held in every district to educate farmers on the latest developments in agriculture both in terms of practice and technology
  6. Krishi Mela’s helps farmers to provide information on post harvest technology, seed processing, soil & water conservation practices, organic farming, green house technology and farm machinery
  7. In Krishi Mela’s , farmers also get information about technical, financial and other supports offered by the Government under various schemes
  8. Create awareness amongst the farming community

How to apply for Krishi Bhagya Scheme:

  1. Farmer should visit agriculture department related to Taluka/districts in Karnataka

References & Details:

  1. For more details about Krishi Bhagya Scheme visit: http://raitamitra.kar.nic.in/ENG/krushiE.asp

 

कर्नाटक में किसानों के लिए कृषि भाग्य योजना

 

कृषि भाग्य योजना यह योजना कर्नाटक सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है। इस योजना के अंतर्गत सरकार ने किसानों को सस्ती किराए पर मशीनरी प्रदान करने का प्रावधान किया है। जैसे की फार्म मशीनरी, ट्रैक्टर, टिलर आदि उपकरण इसमें शामिल हैं। इस योजना के द्वारा कृषि उत्पादकता बढ़ने में मदत मिलेगी। इस योजना के द्वारा तालाब के पानी से फसलों की रक्षा करने के लिए किसान को मदद मिलेगी। इस योजना के द्वारा कृषक समुदाय के बीच जागरूकता लाई जाएगी। कृषि मेला प्रत्येक जिले में आयोजित किया जा रहा है जिसमे अभ्यास और प्रौद्योगिकी के मामले में कृषि के क्षेत्र में नवीनतम विकास पर किसानों को शिक्षित करने का लक्ष है। खेत में वर्षा जल संचयन के लिए खेत तालाबों का निर्माण किया जायेगा। भुचेतना और भुसमृधि कार्यक्रम जैसे की मिट्टी स्वास्थ्य और जल प्रबंधन कर्नाटक में तीसरे चरण में किया जायेगा।

कृषि भाग्य योजना का लाभ:

  • इस योजना के द्वारा कृषि उत्पादकता बढ़ने में मदत मिलेगी।
  • नई तकनीक और उपकरणों का लाभ।
  • दीर्घकालिक कृषि अभ्यास।
  • बेहतर जल प्रबंधन और सिंचाई सुविधा का लाभ।
  • यह योजना सूखा किसानों को मदद करता है।
  • इस योजना के द्वारा तालाब के पानी से फसलों की रक्षा करने के लिए किसान को मदद मिलेगी।

कृषि भाग्य योजना के विशेषताएं:

  • इस योजना के तहत सरकार ने किसानों को सस्ती किराए पर मशीनरी प्रदान करने का प्रावधान किया है।
  • जैसे की फार्म मशीनरी, ट्रैक्टर, टिलर आदि उपकरण इसमें शामिल हैं।
  • 183 फार्म मशीनरी और उपकरण भर्ती केन्द्रों को पहले से ही स्तापित किया गया है और 278 नए केन्द्रों को जल्द ही खोलने का प्रावधान है।
  • भुचेतना और भुसमृधि कार्यक्रम जैसे की मिट्टी स्वास्थ्य और जल प्रबंधन कर्नाटक में तीसरे चरण में किया जायेगा।
  • किसानों ने इस कार्यक्रम को अपनाया तो कृषि क्षेत्र में भारी लाभ मिल सकता है।
  • खेत में वर्षा जल संचयन के लिए खेत तालाबों का निर्माण किया जायेगा।
  • कृषि मेला प्रत्येक जिले में आयोजित किया जा रहा है जिसमे अभ्यास और प्रौद्योगिकी के मामले में कृषि के क्षेत्र में नवीनतम विकास पर
  • किसानों को शिक्षित करने का लक्ष है।
  • इस योजना के द्वारा कृषक समुदाय के बीच जागरूकता लाई जाएगी।

कैसे कृषि भाग्य योजना के लिए आवेदन करे:

  • किसान कर्नाटक के तालुका / जिले कृषि से संबंधित विभाग को भेट दे।

संदर्भ और विवरण:

  1. कृषि भाग्य योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहाँ भेट दे: http://raitamitra.kar.nic.in/ENG/krushiE.asp
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

NekiKiDeewar.in

Most Popular

To Top