News

BHIM Aadhaar – Aadhaar Payment App for Merchants / भीम आधार – व्यापारियों के लिए आधार भुगतान ऐप

What is BHIM Aadhaar Payment App?

The National Payments Corporation of India today announced the launch of a mobile application for Aadhaar-based payments through Bharat Interface for Money (BHIM) app for merchants. The service was launched by Prime Minister Narendra Modi in Nagpur. The new service will allow customers to make purchases using their Aadhaar number linked with their bank account. BHIM Aadhaar would be applicable for retail merchants only and not for corporate merchants, said by government officials. BHIM Aadhar Pay smartphone payment app would also eliminate the fee currently being charged by the private card companies such as ‘MasterCard’ and ‘Visa’.

BHIM Aadhaar Payment App Features:

  • Customers do not need a debit card or credit card for payments through Aadhaar Pay
  • Aadhar Pay would end the need to have an internet connection, many payment apps, or POS machines
  • Aadhaar Pay would not charge Merchant Discount Rate (MDR). (MDR is the charge paid by the merchants to a bank merchant for accepting digital transactions through credit or debit cards)

BHIM Aadhar Pay app is expected to revolutionise the whole payment system in India. To make payments using the BHIM Aadhar Pay app, customers would not require downloading any app or even a mobile phone. The transactions would be authenticated using their fingerprint which is saved in the Aadhar database. Merchants can download the app from play store or iTunes.

BHIM Aadhaar Payment App Download:

What is UPI? Unified Payment Interface launched by National Payment Corporation of India allows payments and money transfers using mobile phones

How to use BHIM Aadhaar Payment App or How does BHIM Aadhaar Payment App work?

  1. Merchants can download the app from play store or iTunes
  2. After that, they can log in with their Aadhaar number using the fingerprint scanner. Once the app is validated, merchants can use it to take payments.
  3. While accepting payments, merchants would enter the Aadhar number of the customer, select the bank and enter the amount to be charged
  4. After that, customer would place his finger/thumb on the fingerprint scanner to authorise the payment
  5. Once the fingerprint matches with the Aadhar Database, the amount will directly be transferred from customer’s account to merchant’s bank account

Using BHIM Aadhar Pay app, transactions can be made through Aadhaar-linked bank accounts (AEBA) only. BHIM Aadhar is a highly secure app which will use two main platforms – Aadhaar Payment Bridge (APB) and Aadhaar Enabled Payment System (AEPS). APB will act as repository between the banks and the customers to provide a smooth flow of transactions, while AEPS will help in authenticating the online process.

Public Sector Banks and Private Banks under Aadhaar Payment:

Allahabad Bank, Andhra Bank, Axis Bank, Bank of Baroda, Bank of India, Canara Bank, Central Bank of India, City Union Bank (Issuer), Corporation Bank, Dena Bank, Federal Bank (ONUS), HDFC Bank, ICICI Bank, IDFC Bank, Indian Bank, IndusInd Bank (Acquirer), Indian Overseas Bank, Oriental Bank of Commerce, Punjab National Bank, Punjab & Sind Bank, State Bank of India, South Indian Bank (Issuer), Syndicate Bank, UCO Bank, Union Bank of India, United Bank of India and Vijaya Bank.

Requirement for This Method of Payment:

The Adhaar payment app does not require any gazette and physical things from the customer. However, a customer should remember his/ her Aadhaar number and keep its finger clean. That is enough from customer’s side.

Customers Requirement:

  • Your Aadhaar number
  • A bank account linked with Aadhaar
  • Clean Fingers

Merchants Requirements:

On the other hand, the merchant has to make more arrangements. These are the requirement for the person who wants payment.

  • Smartphone
  • Reliable Internet connection
  • Aadhaar Payment App
  • Fingerprint scanner
  • Bank account

The officials of the government said that almost 40 crore Aadhaar numbers have already linked to bank accounts. The number is equivalent to the half of the adults in India. The aim of the government is to link all bank accounts with Aadhaar by March 2017. If it goes well, the India will see a boom towards a cashless economy.

 

भीम आधारव्यापारियों के लिए आधार भुगतान ऐप

राष्ट्रीय भुगतान निगम ने आज व्यापारियों के लिए भारत इंटरफेस फॉर मनी  ऐप (भीम) के जरिए आधार आधारित भुगतान के लिए मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च करने की घोषणा की। यह सेवा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नागपुर में शुरू की थी। नई सेवा ग्राहकों को अपने बैंक खाते से जुड़े आधार नंबर का उपयोग करके खरीदारी करने की अनुमति देगा। सरकारी अधिकारियों ने कहा, भीम ऐप आधार केवल खुदरा व्यापारियों के लिए ही लागू होगा न कि कॉर्पोरेट व्यापारियों के लिए। भीम आधार पे ऐप वर्तमान में निजी कार्ड कंपनियों जैसे मास्टर कार्ड और विसा कार्ड द्वारा लगाए जाने वाले शुल्क को समाप्त कर देगा।

भीम आधार भुगतान ऐप विशेषताएं:

  • ग्राहकों को आधार पे के माध्यम से भुगतान के लिए डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की ज़रूरत नहीं है
  • आधार वेतन ( Aadhar Pay) से इंटरनेट कनेक्शन, और कई अन्य भुगतान एप्लिकेशन, या पीओएस (POC) मशीन की आवश्यकता खत्म हो जाएगी

भैम आधार वेतन ऐप को भारत में संपूर्ण भुगतान प्रणाली में क्रांतिकारी बदलाव की उम्मीद है। भीम आधार पे एप का उपयोग करके भुगतान करने के लिए ग्राहकों को किसी ऐप या मोबाइल फोन को डाउनलोड करने की आवश्यकता नहीं होगी। लेनदेन को उनके फिंगरप्रिंट का उपयोग करके प्रमाणित किया जाएगा जो आधार डेटाबेस में सहेजा जाता है। व्यापारी प्ले स्टोर या ituness से ऐप डाउनलोड कर सकते हैं

भीम आधार भुगतान एप्लिकेशन डाउनलोड की लिंक:

  1. एंड्रॉइड के लिए भीम ऐप (Google Play): https://play.google.com/store/apps/details?id=in.org.npci.upiapp&hl=en&rdid=in.org.npci.upiapp
  2. iOS के लिए भीम ऐप (iTunes): https://itunes.apple.com/in/app/bhim-bharat-interface-for-money/id1200315258?mt=8

यूपीआई क्या है?  नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा लॉन्च किया गया यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस मोबाइल फोन का इस्तेमाल करके भुगतान और पैसा हस्तांतरण की अनुमति देता है

भीम आधार भुगतान ऐप का उपयोग कैसे करें या भीम आधार भुगतान ऐप कैसे काम करता है?

  1. व्यापारी प्ले स्टोर या iTunes से ऐप डाउनलोड कर सकते हैं
  2. उसके बाद, वे फिंगरप्रिंट स्कैनर ओर आधार संख्या से ऐप प्रवेश कर सकते हैं। एक बार ऐप सत्यापित हो जाने पर, व्यापारी इसका भुगतान करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।
  3. भुगतान स्वीकार करते समय, व्यापारी ग्राहक की आधार संख्या ऐप में प्रवेश करेंगे, बैंक का चयन करें और शुल्क लेने वाली राशि दर्ज करें
  4. उसके बाद, ग्राहक अपनी उंगली / अंगूठे को भुगतान को अधिकृत करने के लिए फिंगरप्रिंट स्कैनर पर रखेगा
  5. आधार डेटाबेस के साथ फिंगरप्रिंट मैच होने पर, यह राशि सीधे ग्राहक के खाते से व्यापारी के बैंक खाते में स्थानांतरित की जाएगी

भीम आधार पे ऐप का उपयोग करके, लेनदेन केवल आधार-लिंक्ड बैंक खातों (एईबीए) के माध्यम से किया जा सकता है। भीम आधार एक बेहद सुरक्षित ऐप है जो दो मुख्य प्लेटफार्मों का उपयोग करेगा – आधार भुगतान पुल (एपीबी) और आधार सक्षम भुगतान प्रणाली (एईपीएस)। एपीबी बैंकों और ग्राहकों के बीच लेनदेन के प्रवाह को आसान बनाने के लिए रेजोजिटरी के रूप में कार्य करेगा, जबकि एईपीएस ऑनलाइन प्रक्रिया को प्रमाणित करने में मदद करेगा।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक और निजी बैंक आधार भुगतान के तहत:

बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, सिटी यूनियन बैंक (जारीकर्ता), कॉर्पोरेशन बैंक, देना बैंक, फेडरल बैंक (ओएनस), एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, आईडीएफसी बैंक, इंडियन बैंक, इंडसइंड बैंक (अधिग्रहण), इंडियन ओवरसीज बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, पंजाब नेशनल बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, साउथ इंडियन बैंक (जारीकर्ता), सिंडिकेट बैंक, यूको बैंक, यूनियन बैंक भारत, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और विजया बैंक

भुगतान की इस पद्धति की आवश्यकता:

आधार भुगतान ऐप को ग्राहक से कोई राजपत्र और भौतिक चीज़ों की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, एक ग्राहक को उसका आधार नंबर याद रखना चाहिए और अपनी उंगली को साफ रखना चाहिए। यह ग्राहक के पक्ष से पर्याप्त है

ग्राहकों की आवश्यकता:

  • आपका आधार संख्या
  • आधार से जुड़े एक बैंक खाता
  • क्लीन फिंगर्स

व्यापारी आवश्यकताएं:

दूसरी ओर, व्यापारी को अधिक व्यवस्था करना पड़ता है ये उस व्यक्ति की आवश्यकता है जो भुगतान करना चाहता है

  • स्मार्टफोन
  • विश्वसनीय इंटरनेट कनेक्शन
  • आधार भुगतान ऐप
  • अंगुली – छाप परीक्षण यंत्र
  • बैंक खाता

सरकार के अधिकारियों ने कहा कि करीब 40 करोड़ आधार संख्याएं पहले से ही बैंक खातों से जुड़ी हैं। यह संख्या भारत में वयस्कों के आधे के बराबर है। सरकार का लक्ष्य मार्च 2017 तक सभी बैंक खातों को आधार के साथ जोड़ना है। अगर यह अच्छी तरह से चला जाता है, तो भारत कैशलेस अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ जाएगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top